Skip to main content

सिद्धरमैया को बर्खास्त करे आलाकमान

       

भ्रष्टाचार के आरोपों से चौतरफा घिरी कांग्रेस की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं हैं.वर्तमान दौर में कांग्रेस की परिस्थिति देखकर ऐसा लग रहा है मानों कांग्रेस के राज्य और राष्ट्रीय स्तर के नेताओं में भ्रष्टाचार करने की प्रतिस्पर्धा चल रहीं हो.एक तरफ राष्ट्रीय नेतृत्व भ्रष्टाचार के आरोपों से घिर रहा हैं तो, वहीँ दूसरी तरफ कांग्रेस शासित राज्य कर्नाटक से जो खबर आ रही है.वो किसी भी सूरतेहाल में कांग्रेस के लिए सही नहीं हैं.जाहिर है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री  सिद्धरमैया की कई मसलों पर पहले भी किरकिरी हो चुकी है.इसबार आरोप है कि मुख्यमंत्री सिद्धरमैया अपने बेटे को सरकारी अस्पताल में लैब और डायग्नोस्टिक सुविधा बनाने का ठेका सभी नियम –कानून को ताक पर रखते हुए दे दिया है.मामला जैसे ही सामने आया एकबार फिर सिद्धरमैया सबके निशानें पर आ गये है. विपक्ष इस पुरे मुद्दे की जाँच सीबीआई से कराने की मांग करने लगा है,बढ़ते दबाव के बीच उनके बेटे यतींद्र सिद्धरमैया ने मैट्रिक्स इमेजिंग सल्यूशन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया है.गौरतलब है कि ठेका इसी कंपनी को दिया था हालाँकि यह कंपनी उनके दोस्त की है जिसमें यतींद्र पार्टनर थे.खैर,सिद्धरमैया ने  इस मसले पर दलील देते हुए कहा है कि टेंडर का आवंटन करते वक्त सभी नियमों का पालन किया गया है,फिर सवाल उठता है कि जब ठेके की प्रक्रिया पारदर्शी थी तो यतींद्र का इस्तीफा क्यों ? सवाल की तह में जाएँ तो विपक्षी पार्टियाँ लगातार इस मसले पर मुख्यमंत्री पर भाई –भतीजावाद का आरोप लगा रहीं है,विपक्ष का हमला बढ़ता जा रहा था जिससे मुख्यमंत्री  पूरी तरह से दबाव में आ चुके हैं,वही जब यह प्रकरण कांग्रेस आलाकमान के पास पहुंचा तो उसनें भी इस मुद्दे पर नाखुशी जाहिर की तथा इस मामले के निपटारे के लिए ये  सलाह दिया कि  बेटे यतींद्र का इस्तीफा ले लें बात यहीं समाप्त नहीं होती कर्नाटक प्रभारी और कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने तो खुलेआम कह दिया था कि यतींद्र को इस्तीफा दे देना चाहिए.इससे स्पष्ट होता है कि विपक्षी पार्टियों से कहीं ज्यादा हाईकमान के दबाव में आकर यतींद्र ने इस्तीफा दिया ताकि मामले को खत्म किया जा सके.बहरहाल,बेटे का इस्तीफा दिलवाकर सिद्धरमैया ने एक तीर से दो निशानें साधे हैं,पहला ज्यों इस्तीफा हुआ विपक्ष के पास कहने को कुछ खास रहा नहीं और दूसरा इस इस्तीफे से सिद्धरमैया नें अपनी कुर्सी बचानें का दाव खेला है लेकिन, मीडिया में आ रहीं खबरों के मुताबिक सिद्धरमैया ने विपक्षी दलों को तो चुप करा दिया पंरतु कांग्रेस आलाकमान को रिझाने में विफल साबित हुए हैं.कयास लगाएं जा रहें है कि सिद्धरमैया के अड़ियल स्वभाव और काम –करने के तरीको से पार्टी हाईकमान नाराज है और जल्द ही उनके मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन सकती है.हालाँकि सिद्धरमैया इस प्रकार की सभी चर्चाओं को सिरे से ख़ारिज करते हुए कहा है कि उनकी कुर्सी पर कोई खतरा नहीं है. इन सब के बीच नए मुख्यमंत्री के नामों को लेकर भी अटकलें तेज़ हो गई हैं.मुख्यमंत्री के दावेदारी में दो नाम सबसे आगें है.जिसमें पहला नाम राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एसएम कृष्णा का है.जो अभी हालहि में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी से मुलाकत कर पार्टी को संकट से उबारने का भरोसा दिलाया है और दूसरा नाम राज्य के गृह मंत्री जी परमेश्वर का है,परमेश्वर ने भी पिछले सप्ताह सोनिया गाँधी से मुलाकात कर राज्य की वर्तमान राजनीतिक हालातों पर चर्चा किये थे.हालाँकि ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस दलित वोटबैंक को रिझाने के लिए जी परमेश्वर को मुख्यमंत्री न्युक्त कर सकतीं हैं.इन सब मुलाकतों से एक बात तो स्पष्ट है कि कर्नाटक की राजनीति में कोई बड़ा उलटफेर होनें वाला है.दिलचस्प बात यह भी है कि  राज्य के अन्य नेताओं से मिलने का समय कांग्रेस अध्यक्ष के पास है पंरतु मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने जब सोनिया गाँधी से मिलने की इच्छा जाहिर कि तो उन्हें व्यस्त कार्यक्रमों का हवाला देकर टाल दिया गया. बहरहाल,यह पहला मौका नहीं है जब सिद्धरमैया सरकार पर सवाल उठे हो इससे पहले भी कई बार सिद्धरमैया पर भ्रष्टाचार तथा उनके कामकाज के तरीको पर सवाल उठतें रहें हैं.मसलन अभी कुछ महीनों पहले की बात है जब मुख्यमंत्री की करीब सत्तर लाख की घड़ी को लेकर पुरे राज्य की सियासत गर्म हो गई थी,सभी विपक्षी दल ये सवाल उठा रहे थे कि मुख्यमंत्री के पास इतना पैसा कहाँ से आया ? घड़ी को लेकर घिरे सिद्धरमैया ने उस घड़ी उपहार बताया था.बावजूद इसके घड़ी को लेकर कई रोज हंगामा चलता रहा.मुख्यमंत्री की विवादस्पद घड़ी के चलते विपक्षी दलों ने विधानसभा तक नही चलने दिया था.चारो तरफ आलोचना झेलने के बाद घड़ी विवाद उस वक्त थमा जब मुख्यमंत्री ने इस घड़ी को राज्य की संपत्ति घोषित कर दिया.इसीप्रकार मुख्यमंत्री पर एक कमिश्नर को चांटा मारने वाला विडियो सामने आ चुका है, जिसमें सिद्धरमैया गुस्से में आकर एक शख्स को चांटा मारते है वायरल विडियो को जब ठीक दे देखा गया तो पता चला कि ये शख्स बेल्लारी नगर निगम कमिश्नर हैं.मुख्यमंत्री ने इस विडियो को अपने खिलाफ झूठा प्रचार बता कर खारिज कर दिया था.इस प्रकार  सिद्धरमैया के ऊपर लगे आरोपों की एक लंबी फेहरिस्त है जो उनके शासनकाल में बढ़ते भ्रष्टाचार और कुशासन के दावों की पुख्ता करती हैं.अब देखने वाली बात होगी की कई गंभीर आरोपों से घिरे सिद्धरमैया को लेकर जो अफवाहें चल रहीं है,उसमें कितनी सच्चाई है लेकिन अगस्ता वेस्टलैंड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष समेत पार्टी के कई आला नेताओं के नाम सामने आने से  कांग्रेस बुरी फंसती दिख रही है ऐसे में इस मुद्दे से ध्यान भटकाने के लिए कांग्रेस सिद्धरमैया को बर्खास्त कर सकती हैं.अगर कांग्रेस ऐसा करती है तो कहीं न कहीं पार्टी के ऊपर जो  भ्रष्टाचार के आरोप लग रहें है उससे निपटने में पार्टी को बल मिलेगा. 

Comments

Popular posts from this blog

महाभियोग पर कांग्रेस का महाप्रलाप

सात विपक्षी दलों द्वारा मुख्य न्यायधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ़ दिए गए महाभियोग नोटिस को उपराष्ट्रपति ने यह कहते हुए ख़ारिज कर दिया कि मुख्य न्यायधीश के ऊपर लगाए गए आरोप निराधार और कल्पना पर आधारित है. उपराष्ट्रपति की यह तल्ख़ टिप्पणी यह बताने के लिए काफ़ी है कि कांग्रेस ने  किस तरह से अपने राजनीतिक स्वार्थों की पूर्ति के लिए महाभियोग जैसे अति गंभीर विषय पर अगम्भीरता दिखाई है. महाभियोग को अस्वीकार करने की 22 वजहें उपराष्ट्रपति ने बताई हैं. दस पेज के इस फ़ैसले में उपराष्ट्रपति ने कुछ महत्वपूर्ण तर्क भी दिए हैं. पहला, सभी पांचो आरोपों पर गौर करने के बाद ये पाया गया कि यह सुप्रीम कोर्ट का अंदरूनी मामला है ऐसे में महाभियोग के लिए यह आरोप स्वीकार नहीं किये जायेंगे. दूसरा, रोस्टर बंटवारा भी मुख्य न्यायधीश का अधिकार है और वह मास्टर ऑफ़ रोस्टर होते हैं. इस तरह के आरोपों से न्यायपालिका की स्वतंत्रता को ठेस पहुंचती है. तीसरा, इस तरह के प्रस्ताव के लिए एक संसदीय परंपरा है. राज्यसभा के सदस्यों की हैंडबुक के पैराग्राफ 2.2 में इसका उल्लेख है, जिसके तहत इस तरह के नोटिस को पब्लिक करने की अनुमति नहीं है, किन्त…

निष्पक्ष चुनाव कराने की चुनौती

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव जैसे –जैसे करीब आता जा रहा है सभी राजनीतिक दलों के साथ चुनाव आयोग भी चुस्त होता जा रहा है.दरअसल,  देश के सबसे बड़े सूबे में चुनाव के दरमियान अनियमितताओं को लेकर भारी मात्रा में शिकायत सुनने को मिलती रहती है. जिसके मद्देनजर चुनाव आयोगने अभी से कमर कस ली है जिससे आने वाले विधानसभा चुनाव को सही ढंग से कराया जा सके. इसको ध्यान में रखते हुए चुनाव आयोग पूरी तरह से सक्रिय हो गया है. मुख्य चुनाव आयुक्त ने अपनी पूरी टीम के साथ लखनऊ में पुलिस के आला अधिकारियों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक की. जिसमें चुनाव की तैयारियों का जायजा लिया गया तथा आगे की रणनीति पर चर्चा हुई, चुनाव आयुक्त ने स्पष्ट किया है कि चुनाव से पहले सभी चिन्हित अपराधियों को जेल में डाला जाए इसके उपरांत ही भयमुक्त चुनाव कराए जा सकते हैं. इसके साथ ही मुख्य चुनाव आयुक्त ने पुलिस अधिकारियों को सख्त लहजे में कह दिया है कि चुनाव के दौरान किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी. इस तरह यूपी चुनाव में जैसे राजनीतिक दल अपनी–अपनी तैयारियों में लगे हुए हैं, वैसे ही चुनाव आयोग ने भी अपनी तैयारियों में तेज़ी लाई है.…

कर्नाटक में स्थायी सरकार जरूरी

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम सबके सामने है.किसी भी दल को वहाँ की जनता ने स्पष्ट जनादेश नहीं दिया .लेकिन, बीजेपी लगभग बहुमत के आकड़े चुमते –चुमते रह गई और सबसे बड़े दल के रूप में ही भाजपा को संतोष करना पड़ा है. कौन मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगा ? इस खंडित जनादेश के मायने क्या है ? क्या कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस को खारिज़ कर दिया ? ऐसे बहुतेरे सवाल इस खंडित जनादेश के आईने में खड़े हो थे. सरकार बनाने के लिए तमाम प्रकार की जद्दोजहद कांग्रेस और जेडीएस ने किया किन्तु कर्नाटक की जनता ने बीजेपी को जनादेश दिया था इसलिए राज्यपाल ने संविधान सम्मत निर्णय लेते हुए बी.एस यदुरप्पा को सरकार बनाने का न्यौता भेजा. राज्यपाल के निर्णय से बौखलाई कांग्रेस आधी रात को सुप्रीम कोर्ट की शरण में गई लेकिन, उसे वहां भी मुंह की खानी पड़ी. खैर,बृहस्पतिवार की सुबह यदुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.राज्यपाल के निर्देशानुसार पन्द्रह दिन के भीतर उन्हें  विधानसभा में बहुमत साबित करना होगा,फिलहाल अगर कर्नाटक की राजनीति को समझें तो बीजेपी के लिए यह बहुत कठिन नहीं होगा.क्योंकि जेडीएस और कांग्रेस के बीच हुए इस अनैतिक गठबन्…