Skip to main content

काश यादें भी भूकंप के मलबे. में दब जातीं ..

   
एक दिन बैठा था अपनी तन्हाइयों के साथ खुद से बातें कर रहा था. चारों तरफ शोर –शराबा था, लोग भूकम्प की बातें करते हुए निकल रहें थे साथ ही सभी अपने–अपने तरीके से इससे  हुए नुकसान का आंकलन भी कर रहें थे.  मै चुप बैठा सभी को सुन रहा था. फिर अचानक उसकी यादों ने दस्तक दी और आँखे भर आयीं. आख  से निकले हुए अश्क मेरे गालों को चूमते  हुए मिट्टी में घुल–मिल जा रहें थे मानों ये आसूं उन ओश की बूंदों की तरह हो जो किसी पत्ते को चूमते हुए मिट्टी को गलें लगाकर अपना आस्तित्व मिटा देती हैं. उसी  प्रकार मेरे आंशु भी मिट्टी में अपने वजूद को खत्म कर रहें थे. दरअसल उसकी याद अक्सर मुझे हँसा भी जाती है और रुला भी जाती है. दिल में एक ऐसा भाव जगा जाती है जिससे मै खुद ही अपने बस में नहीं रह पाता, पूरी तरह बेचैन हो उठता. जैसे उनदिनों जब वो  मुझसे मिलने आती तो अक्सर लेट हो जाती,मेरे फोन का भी जबाब नहीं देती, ठीक इसी प्रकार की बेचैनी मेरे अंदर उमड़ जाती थी. परन्तु तब के बेचैनी और अब के बेचैनी में  एक बड़ा फर्क है, तब देर से ही सही  आतें ही उसके होंठों से पहला शब्द सॉरी...ही निकलता था और मेरे अंदर का गुस्सा (जो दिखावें के लिए था ) और ज्यादा उफान पर हो जाता, परन्तु वो अपने हजार कामों का ब्यौरा देकर और एक प्यारी सी मुस्कान के साथ मेरी  तरफ देखकर मुझे अपना गुलाम बना लेती.  मै भी उसकी गुलामी में अपनी आज़ादी ही समझता था और उसको अपने आप को ये कहते हुए समर्पण कर देता कि प्यार समर्पण ही है, मेरा गुस्सा तब उस मोम की तरह हो जाता जो सूर्य  के पास जाना  चाहता  हो, परन्तु सूर्य की  एक किरण मात्र से ही घुल जाए. मै भी वहां उस मोम की तरह ही अपने आप को महसूस करता और पिघल जाता. फिर हम एक दूसरे  की  बातों के खो जाते, उस वक्त समूची दुनिया में यही लगता था हम दोनों के सिवाए कोई नही. कमबख़्त समय भी न...जब वो साथ होती तो कुछ जल्दी ही घड़ी की सुइयां अपनी परिक्रम पूरी कर लेती थी. बहरहाल एक दिन चली गई वो मुझे छोड़ कर बिना बताए. मै पूरी तरह बिखर गया, उसकी यादों में डूबा रहता था. सुबह कब और शाम कब, कुछ पता ही नहीं चलता, इस कदर मदहोशियों का आलम था. मै हारने वाला नही था फिर से अपने कैरियर  और फ्यूचर की ओर मैंने  झांकना शुरु किया और सम्भला, क्योकिं अभी पूरी जिन्दगी मेरे सामने पड़ी है...जिन्दगी  महज़ जज्बातों और बातों से चलना मुस्किल है. अब मैं ये भी  समझ गया हूँ कि हमारा अफसाना अंजाम तक नहीं पहुँच सकता था, और ये अच्छा ही हुआ कि हम अपनी–अपनी राहों में आगे बढ़ गये. पर तुम्हारी याद अब भी नहीं जाती. यादें इंसान को कमजोर बनाती है, पर मैं समय के अनुसार मजबूत होता गया हूँ. वैसे भी तुम्हारा आना और जाना एक सपने की तरह था और सपने को सहेजा नहीं जाता, वो आतें है और दिल के मलबे में दबी यादों को झकझोर के कर चलें जाते हैं.शिकायत तुमसे भी है और इस भूकम्प से भी जिसके आने से बड़ी–बड़ी इमारते और न जाने क्या–क्या मलबे में खो जाता  है. काश! ये कमबख्त याद इस भूकम्प में मलबे में दब जाती।

तहलका में प्रकाशित 

Comments

स्मृतियाँ साथ चलती हैं :(
kamal upadhyay said…
बहुत ही सुन्दर कल्पना...यादों के झरोखे से वर्तमान का जुड़ाव
modassir khan said…
.जिन्दगी महज़ जज्बातों और बातों से चलना मुस्किल है. क्या खूब कहा मित्र.
Anjali Chandel said…
शानदार दोस्त,वास्तविकता का ऐसा वर्णन की आँखों में नमी का आना।
Anjali Chandel said…
This comment has been removed by the author.
Pankaj Kasrade said…
भैया क्या अनूठा एवं वास्तविक चित्रण किया है। वाह्ह

Popular posts from this blog

महाभियोग पर कांग्रेस का महाप्रलाप

सात विपक्षी दलों द्वारा मुख्य न्यायधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ़ दिए गए महाभियोग नोटिस को उपराष्ट्रपति ने यह कहते हुए ख़ारिज कर दिया कि मुख्य न्यायधीश के ऊपर लगाए गए आरोप निराधार और कल्पना पर आधारित है. उपराष्ट्रपति की यह तल्ख़ टिप्पणी यह बताने के लिए काफ़ी है कि कांग्रेस ने  किस तरह से अपने राजनीतिक स्वार्थों की पूर्ति के लिए महाभियोग जैसे अति गंभीर विषय पर अगम्भीरता दिखाई है. महाभियोग को अस्वीकार करने की 22 वजहें उपराष्ट्रपति ने बताई हैं. दस पेज के इस फ़ैसले में उपराष्ट्रपति ने कुछ महत्वपूर्ण तर्क भी दिए हैं. पहला, सभी पांचो आरोपों पर गौर करने के बाद ये पाया गया कि यह सुप्रीम कोर्ट का अंदरूनी मामला है ऐसे में महाभियोग के लिए यह आरोप स्वीकार नहीं किये जायेंगे. दूसरा, रोस्टर बंटवारा भी मुख्य न्यायधीश का अधिकार है और वह मास्टर ऑफ़ रोस्टर होते हैं. इस तरह के आरोपों से न्यायपालिका की स्वतंत्रता को ठेस पहुंचती है. तीसरा, इस तरह के प्रस्ताव के लिए एक संसदीय परंपरा है. राज्यसभा के सदस्यों की हैंडबुक के पैराग्राफ 2.2 में इसका उल्लेख है, जिसके तहत इस तरह के नोटिस को पब्लिक करने की अनुमति नहीं है, किन्त…

दुष्प्रचार की डगमगाती नैया के बीच गतिशील संघ !

यह एक सामान्य सत्य है कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को लेकर तमाम प्रकार की भ्रांतियां एवं दुष्प्रचार लंबे समय से देश में चलता रहा है.कांग्रेस एवं मीडिया से जुड़े बुद्दिजीवियों का एक धड़ा संघ को एक साम्प्रदायिक एवं राष्ट्र विरोधी संगठन जैसे अफवाहों को हवा देने की जिम्मेदारी अपने कंधो पर ले रखी है.किंतु वर्तमान समय में इनका   हर दावं विफ़ल साबित हो रहा है,जिससे तंग आकर इस कबीले के लोगों ने नया ढंग ईजाद किया है.वह है संघ से जुड़े पदाधिकारियों के बयान को अपनी सुविधा और अपने वैचारिक हितों की पूर्ति के मद्देनजर दिखाना.ताज़ा मामला संघ प्रमुख मोहन भागवत के बिहार के मुजफ्फरपुर में रविवार को दिए भाषण का है.संघ प्रमुख ने स्वयं सेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि “हमारा मिलिट्री संगठन नहीं है मिलिट्री जैसी डिसिप्लिन हमारी है और अगर देश को जरूरत पड़े और देश का संविधान,कानून कहे तो, सेना तैयार करने में छह –सात महीने लग जायेंगे,संघ के स्वयंसेवक को लेंगे तो तीन दिन में तैयार हो जाएगा.यह हमारी क्षमता है लेकिन, हम मिलिट्री संगठन नहीं है पैरामिलिट्री भी नहीं हैं हम तो पारिवारिक संगठन हैं” मोहन भागवत के इस संतुलित…

कर्नाटक में स्थायी सरकार जरूरी

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम सबके सामने है.किसी भी दल को वहाँ की जनता ने स्पष्ट जनादेश नहीं दिया .लेकिन, बीजेपी लगभग बहुमत के आकड़े चुमते –चुमते रह गई और सबसे बड़े दल के रूप में ही भाजपा को संतोष करना पड़ा है. कौन मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगा ? इस खंडित जनादेश के मायने क्या है ? क्या कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस को खारिज़ कर दिया ? ऐसे बहुतेरे सवाल इस खंडित जनादेश के आईने में खड़े हो थे. सरकार बनाने के लिए तमाम प्रकार की जद्दोजहद कांग्रेस और जेडीएस ने किया किन्तु कर्नाटक की जनता ने बीजेपी को जनादेश दिया था इसलिए राज्यपाल ने संविधान सम्मत निर्णय लेते हुए बी.एस यदुरप्पा को सरकार बनाने का न्यौता भेजा. राज्यपाल के निर्णय से बौखलाई कांग्रेस आधी रात को सुप्रीम कोर्ट की शरण में गई लेकिन, उसे वहां भी मुंह की खानी पड़ी. खैर,बृहस्पतिवार की सुबह यदुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.राज्यपाल के निर्देशानुसार पन्द्रह दिन के भीतर उन्हें  विधानसभा में बहुमत साबित करना होगा,फिलहाल अगर कर्नाटक की राजनीति को समझें तो बीजेपी के लिए यह बहुत कठिन नहीं होगा.क्योंकि जेडीएस और कांग्रेस के बीच हुए इस अनैतिक गठबन्…