Skip to main content

चुनौतियों से पार पाना आसान नही


 सभी कयासों को विराम लागते हुए भारतीय जनता पार्टी ने अमित शाह को दुबारा पार्टी अध्यक्ष चुना.बीते रविवार को अमित शाह दुबारा पार्टी अध्यक्ष के रूप में निर्विरोध चुने गये. राजनाथ सिंह का कार्यकाल पूरा करने  के बाद उन्हें पहली बार पूर्ण कालिक अध्यक्ष बनाया गया है.अमित शाह भारतीय राजनीति में ऐसा नाम है, जिसकी छवि एक कद्दावर नेता के तौर पर होती है.विगत लोकसभा चुनाव में इनकी रणनीति और चुनाव प्रबंधन का सबने लोहा माना था.जिसके परिणामस्वरूप राजनाथ सिंह को अध्यक्ष पद से मुक्त कर शाह को पार्टी अध्यक्ष बनाया गया था.लोकसभा चुनाव के बाद से महाराष्ट्र ,हरियाणा समेत कई राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी ने अपने विजय रथ को जारी रखा,गौरतलब है कि इन चुनावों में पार्टी अध्यक्ष से कहीं ज्यादा प्रधानमंत्री मोदी ने खुद चुनाव प्रचार की कमान संभाली थी,नतीजा पार्टी इन राज्यों में अपनी सरकार बनाने में सफल रही,लेकिन एक बात पर गौर करें तो जैसे ही मोदी का लहर में कमी आई,पार्टी को पराजय का सामना करना पड़ा.पहले दिल्ली में पार्टी को करारी शिकस्त मिली.उसके कुछ महीनों  बाद बिहार में हुए विधानसभा चुनाव में भी पार्टी को हार का मुंह देखना पड़ा.इसके साथ कई राज्यों ,में हुए नगर निकाय चुनाव के नतीजे भी पार्टी के लिए चिंता का विषय है.बहरहाल ,अमित शाह बीजेपी के शाह तो बन गयें लेकिन उनके सामने कई ऐसी चुनौतियाँ है जिससे पार पाना अमित शाह के लिए आसान नही होगा.शाह की पहली चुनौती अपनो को मनाने की होगी,अपनों का सीधा मतलब  मार्गदर्शक  मंडल से है.ये बात जगजाहिर है कि अमित शाह भले ही  निर्विरोध अध्यक्ष चुने गयें हो पर, इस फैसले से मार्गदर्शक मंडल खुश नही है.इस बात का जिक्र करना इसलिए जरूरी हो जाता है.क्योकिं पार्टी ने मार्गदर्शक मंडल बनाया तो है,लेकिन कभी भी उनके साथ पार्टी की कोई बैठक नही होती तथा न ही किसी मसले पर पार्टी के इन वरिष्ठ नेताओं का सुझाव माँगा जाता है.नतीजा मार्गदर्शक मंडल अपने आप को अलग –थलग पाता है.बीजेपी भले ये दावा करें कि शाह सबकी सहमती से अध्यक्ष चुने गयें है.लेकिन अमित शाह की ताजपोशी में आडवाणी,जोशी समेत मार्गदर्शक मंडल का कोई भी सदस्य मौजूद नही था.जो बीजेपी के इस दावे पर सवालियां निशान लगाता है.अमित शाह पार्टी के इन वरिष्ठ सदस्यों को मनाने में सफल हो जाते है तो, ये शाह की बड़ी जीत होगी.इस जीत के मायने को समझें तो दो बातें सामने आतीं है.पहली बात जबसे अमित शाह पार्टी की कमान संभालें है पार्टी पर मार्गदर्शक मंडल की अनदेखी करने का आरोप लगता आया है.अगर अमित शाह इनकों अपने पक्ष में कर लेते है तो, इस आरोप से बच जायेंगे.दूसरी बात पर गौर करें तो कुछ महीनों से बीजेपी में आंतरिक कलह की बात सामने आई है,जिसमे मार्गदर्शक मंडल के साथ पार्टी के कई बड़े नेता अमित शाह और मोदी के विरोध में खड़ें दिखे रहें है.जो किसी भी संगठन के लिए सुखद संकेत नही है.अमित शाह को इस चुनौती से जल्द से जल्द पार पाना होगा.अमित शाह की दूसरी सबसे बड़ी चुनौती आगामी कई राज्यों के होने वाले विधानसभा चुनाव है,क्योकिं अब मोदी का वो जादू नही रहा जिसपर सवार होकर बीजेपी आसानी से जीत तक पहुँच जायेगी,अमित शाह को एक ऐसी चुनावी बिसात विछानी होगी.जिसपर चल कर पार्टी जीत तक पहुँच सके.अमित शाह का निर्वाचन ऐसे वक्त में हुआ है,जब कई राज्यों में विधानसभा चुनाव होने है.मसलन पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुद्दुचेरी ये ऐसे राज्य है.जहाँ चुनाव कुछ ही महीनों में होने वालें है.इन राज्यों में होने वालें चुनाव अमित शाह के नेतृत्व के लिए पार्टी को जीत दिलाने की बड़ी चुनौती होगी.असम को छोड़ दे तो बाकी  राज्यों में बीजेपी को सहयोगी दल की तलाश होगी.गठबंधन के लिए पार्टी का चयन करने मे अमित शाह परिपक्व नही है.जिसके कई उदाहरण हमारे सामने है ,महाराष्ट्र में बीजेपी ,शिवसेना के साथ ताल –मेल बैठाने में कारगर नही हुई है,शिवसेना और बीजेपी के रिश्तों में इतनी तल्खी कभी देखने को नही मिली लेकिन, अब आएं दिन महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना की तकरार हमारे सामने आती है,दूसरा उदाहरण जम्मू –कश्मीर में भाजपा ने पीडीपी के साथ मिलकर सरकार बनाई लेकिन आज वो गठबंधन पार्टी के उम्मीदों पर खरा नही उतर पाई,सईद के मृत्यु के बाद से अभी तक वहां नई सरकार का गठन नही हुआ है ,जो बीजेपी –पीडीपी के संबंधो में खटास बताने के लिए काफी है.बहरहाल, अमित शाह के समाने सबसे बड़ी चुनौती पार्टी में अनुशासन कायम करने की है.पार्टी में कई ऐसे मंत्री और नेता है.जिनके बड़बोले बयानों ने पार्टी की खूब किरकरी कराई है,अमित शाह के निर्देश के बावजूद कई ऐसे मौके आएं जहाँ पार्टी बेकाबू होते हुए नजर आई,आज भी कई नेता पार्टी लाइन से हटकर बयानबाज़ी कर रहें है,इन सबको अनुशासन का पाठ पढ़ाना अमित शाह की जिम्मेदारी है,अब देखने वाली बात होगी कि अमित शाह कैसे ये जिम्मेदारी निभातें है. अमित शाह के लिए ये कार्यकाल चुनौतियों भरा रहेगा, अगर इन चुनौतियों पार पाने में शाह सफल हो गये तो इससे न सिर्फ पार्टी जीत के रास्ते पर  वापस आएगी बल्कि शाह पार्टी के सबसे सफल अध्यक्ष के रूप में अपने आप को साबित कर सकेंगे.

Comments

Popular posts from this blog

महाभियोग पर कांग्रेस का महाप्रलाप

सात विपक्षी दलों द्वारा मुख्य न्यायधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ़ दिए गए महाभियोग नोटिस को उपराष्ट्रपति ने यह कहते हुए ख़ारिज कर दिया कि मुख्य न्यायधीश के ऊपर लगाए गए आरोप निराधार और कल्पना पर आधारित है. उपराष्ट्रपति की यह तल्ख़ टिप्पणी यह बताने के लिए काफ़ी है कि कांग्रेस ने  किस तरह से अपने राजनीतिक स्वार्थों की पूर्ति के लिए महाभियोग जैसे अति गंभीर विषय पर अगम्भीरता दिखाई है. महाभियोग को अस्वीकार करने की 22 वजहें उपराष्ट्रपति ने बताई हैं. दस पेज के इस फ़ैसले में उपराष्ट्रपति ने कुछ महत्वपूर्ण तर्क भी दिए हैं. पहला, सभी पांचो आरोपों पर गौर करने के बाद ये पाया गया कि यह सुप्रीम कोर्ट का अंदरूनी मामला है ऐसे में महाभियोग के लिए यह आरोप स्वीकार नहीं किये जायेंगे. दूसरा, रोस्टर बंटवारा भी मुख्य न्यायधीश का अधिकार है और वह मास्टर ऑफ़ रोस्टर होते हैं. इस तरह के आरोपों से न्यायपालिका की स्वतंत्रता को ठेस पहुंचती है. तीसरा, इस तरह के प्रस्ताव के लिए एक संसदीय परंपरा है. राज्यसभा के सदस्यों की हैंडबुक के पैराग्राफ 2.2 में इसका उल्लेख है, जिसके तहत इस तरह के नोटिस को पब्लिक करने की अनुमति नहीं है, किन्त…

निष्पक्ष चुनाव कराने की चुनौती

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव जैसे –जैसे करीब आता जा रहा है सभी राजनीतिक दलों के साथ चुनाव आयोग भी चुस्त होता जा रहा है.दरअसल,  देश के सबसे बड़े सूबे में चुनाव के दरमियान अनियमितताओं को लेकर भारी मात्रा में शिकायत सुनने को मिलती रहती है. जिसके मद्देनजर चुनाव आयोगने अभी से कमर कस ली है जिससे आने वाले विधानसभा चुनाव को सही ढंग से कराया जा सके. इसको ध्यान में रखते हुए चुनाव आयोग पूरी तरह से सक्रिय हो गया है. मुख्य चुनाव आयुक्त ने अपनी पूरी टीम के साथ लखनऊ में पुलिस के आला अधिकारियों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक की. जिसमें चुनाव की तैयारियों का जायजा लिया गया तथा आगे की रणनीति पर चर्चा हुई, चुनाव आयुक्त ने स्पष्ट किया है कि चुनाव से पहले सभी चिन्हित अपराधियों को जेल में डाला जाए इसके उपरांत ही भयमुक्त चुनाव कराए जा सकते हैं. इसके साथ ही मुख्य चुनाव आयुक्त ने पुलिस अधिकारियों को सख्त लहजे में कह दिया है कि चुनाव के दौरान किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी. इस तरह यूपी चुनाव में जैसे राजनीतिक दल अपनी–अपनी तैयारियों में लगे हुए हैं, वैसे ही चुनाव आयोग ने भी अपनी तैयारियों में तेज़ी लाई है.…

कर्नाटक में स्थायी सरकार जरूरी

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम सबके सामने है.किसी भी दल को वहाँ की जनता ने स्पष्ट जनादेश नहीं दिया .लेकिन, बीजेपी लगभग बहुमत के आकड़े चुमते –चुमते रह गई और सबसे बड़े दल के रूप में ही भाजपा को संतोष करना पड़ा है. कौन मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगा ? इस खंडित जनादेश के मायने क्या है ? क्या कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस को खारिज़ कर दिया ? ऐसे बहुतेरे सवाल इस खंडित जनादेश के आईने में खड़े हो थे. सरकार बनाने के लिए तमाम प्रकार की जद्दोजहद कांग्रेस और जेडीएस ने किया किन्तु कर्नाटक की जनता ने बीजेपी को जनादेश दिया था इसलिए राज्यपाल ने संविधान सम्मत निर्णय लेते हुए बी.एस यदुरप्पा को सरकार बनाने का न्यौता भेजा. राज्यपाल के निर्णय से बौखलाई कांग्रेस आधी रात को सुप्रीम कोर्ट की शरण में गई लेकिन, उसे वहां भी मुंह की खानी पड़ी. खैर,बृहस्पतिवार की सुबह यदुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.राज्यपाल के निर्देशानुसार पन्द्रह दिन के भीतर उन्हें  विधानसभा में बहुमत साबित करना होगा,फिलहाल अगर कर्नाटक की राजनीति को समझें तो बीजेपी के लिए यह बहुत कठिन नहीं होगा.क्योंकि जेडीएस और कांग्रेस के बीच हुए इस अनैतिक गठबन्…