Skip to main content

कामरेड कन्हैया आपने बोला तो बहुत कुछ मगर कहा क्या !


देशद्रोह जैसे संगीन आरोपो से घिरे जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को दिल्ली हाईकोर्ट ने छह माह की अंतरिम जमानत पर रिहा कर दिया.इसके साथ ही कोर्ट ने जेएनयू में हुए देश विरोधी घटनाओं पर कड़ा रुख अख्तियार करते हुए अपने तेईस पेज के फैसले में कोर्ट ने कन्हैया समेत जेएनयू के प्रोफ़ेसरों को कड़ी फटकार लगाई है.अपने फैसले में कोर्ट ने कई बातों का जिक्र किया है,जिसपर गौर करने के बजाय वामपंथियों ने कन्हैया का महिमामंडन करना शुरू कर दिया है.कोर्ट ने अपने फैसले में देश विरोधी नारे लगाने वालों के लिए कहा कि, एक तरह से इंफेक्शन छात्रों में फैल रहा है.इसे बीमारी बनने से पहले रोकना होगा.एंटी बायोटिक से इंफेक्शन कंट्रोल न हो तो, दूसरे चरण का इलाज शुरू किया जाता है.ऑपरेशन की भी जरूरत पड़ती है.उम्मीद है न्यायिक हिरासत में कन्हैया ने ये सोचा होगा कि आखिर ऐसी घटनाएँ हुई क्यों ? कोर्ट के द्वारा कही गई इन बातों से स्पष्ट होता है कि, कोर्ट इस मसले पर गंभीर एवं सजग है.इस संयमित निर्णय में कोर्ट ने कन्हैया के घर की माली हालत का भी जिक्र किया तो वहीँ एक छात्रसंघ अध्यक्ष के रूप में भी कन्हैया को उसकी जिम्मेदारीयों से भी अवगत कराया .भारतीय लोकतंत्र एक उदार लोकतंत्र है,यही हमारे लोकतंत्र की खूबसूरती भी है.हमे इस उदारता का सम्मान करना चाहिए.पंरतु, जमानत के बाद से इस उदारता का अनुचित लाभ उठाने में वामपंथियो ने तनिक भी देर नहीं लगाई.खैर,शर्तों के साथ मिली जमानत पर जश्न और कन्हैया की जीत के नारे लगाने वाले ये भूल रहें हैं कि कोर्ट ने कन्हैया को अभी क्लीनचिट नहीं दी है,तथा न ही कन्हैया को देशद्रोह के आरोपों से मुक्त किया है.कोर्ट के फैसले पर आत्ममंथन करने के बजाय कन्हैया कुमार को हीरो बनाने का ठेका हमारे वामपंथी बुद्दिजीवियों ने लिया है,वो अपने आप में दर्शता है कि इस विचारधारा के लोग अंतरिम जमानत के मायने को समझने में असमर्थ हैं अथवा अपने बौद्धिक अहंकार के आगे संविधान को दरकिनार कर रहें हैं.इसमें मीडिया के लोग तथा तथाकथित बुद्दिजीवी वर्ग कन्हैया को नायक बनाने की नाकाम कोशिश करने में लगे हुए है,दरअसल विमर्श को मुद्दा ये होना चाहिए कि छात्रों को संक्रमण से कैसे बचाना है ? मगर लाल सलामी वाले इस विमर्श में दिलचस्पी दिखाने के बजाय कन्हैया में तमाम प्रकार की संभावनाओं को तलाश रहें हैं.गौरतलब है कि जेल से रिहा होने के बाद जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष ने जिस लहजे में अपना भाषण दिया आज पुरे देश में चर्चा का विषय बन गया है.इसमें कोई दोराय नहीं है कि,आज भी देश में असमानता है ,गरीबी है तथा महंगाई भी है,भ्रष्टाचार रूपी दानव अपना विक्राल रूप लिए आपको हर मोड़ पर खड़ा मिलेगा,इन सब बातों का जिक्र कन्हैया ने अपने भाषण के दौरान किया और खूब लोकप्रियता बटोरने का चतुर प्रयास किया.काफी हद तक कन्हैया अपने इस एजेंडे में सफल भी रहा लेकिन,लगभग चालीस मिनट के भाषण में कन्हैया ने उन सब बातों का जिक्र करना भी मुनासिब नहीं समझा जिसके कारण आज इतना बड़ा बवाल हुआ है.अगर स्पष्ट शब्दों में कहें तो कन्हैया ने अपना भाषण एक राजनेता के तौर पर तैयार किया था,न कि एक छात्र नेता के तौर पर,यही कारण है कि देश के कुछ राजनेता कन्हैया की तारीफ करने का मौका गवाना नहीं चाहते हैं.सवाल खड़ा होता है कि कन्हैया ने ऐसा क्या कह दिया कि कुछ राजनेताओं को ये भाषण इतना प्रिय लगा.दरअसल कन्हैया ने अभिव्यक्ति की आज़ादी का भरपूर इस्तेमाल करते हुए अपने पुरे भाषण में सरकार तथा आरएसएस पर तीखा हमला किया.जिससे सरकार भी असहज स्थिति में दिख रही है.कन्हैया द्वारा कही गई बातें समूचे विपक्ष को बहुत पंसद आई है,शायद ऐसा तार्किक हमला हमारे सियासतदान भूल चुके थे,कन्हैया ने सत्ता पक्ष को तो असमंजस में डाला ही है,इसके साथ ही विपक्ष को भी सकारात्मक व जनसरोकारी मुद्दों का पाठ पढ़ाया है.बहरहाल कामरेड कन्हैया के भाषण को गौर पूर्वक सुनने के पश्चात् कुछ सवाल खड़े होते हैं.कन्हैया ने बोला तो बहुत कुछ मगर कहा क्या ? ये बात इसलिए क्योंकि पुरे जेएनयू कांड पर कन्हैया ने एक शब्द भी नहीं बोला,पुरे भाषण में उसने अपनी राजनीति चमकाने का भरपूर प्रयास किया,जिसमे अभी तक सफल भी दिख रहा है.लेकिन इन सब के बीच मुख्य मुद्दे को कन्हैया ने बड़ी चतुराई से गौण करने का कुटिल प्रयास किया है.कन्हैया को इसी मंच से ये कहना उचित क्यों नही लगा कि जिस इन्फेक्शन की बात कोर्ट ने कही है.हमें जेएनयू के कैम्पस में इस देशद्रोह जैसे इन्फेक्सन से आज़ादी चाहिए,संघ से आज़ादी ,मोदी सरकार से आज़ादी इस वैचारिक विरोध के अतिरिक्त कन्हैया ने देश को क्यों नही आश्वस्त किया कि आगे से जेएनयू में अफजल या किसी भी आतंकवादियों की बरसी पर अगर कोई कार्यक्रम होता है तो जेएनयू छात्र संघ विरोध करेगा ? कन्हैया ने क्यों नही इस बात पर जोर दिया कि कोर्ट ने जिस संक्रमण की बात कही है,उस संक्रमण को रोकने के लिए जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष होने के नाते मैं इस इंफेक्शन को रोकने का हर संभव प्रयास करूंगा,इन सब बातों का जिक्र न कर के कन्हैया ने गरीबी,भ्रष्टाचार की आड़ में देश को गुमराह करने की नाकाम कोशिश की है.दूसरी बात कन्हैया के अनुसार ये पूरा मामला जेएनयू को बदनाम करने की साजिश है,जो सरकार तथा आरएसएस के इशारे पर हो रहा है.परंतु कन्हैया ये भूल रहा है कि जेएनयू को किसी ने सबसे ज्यादा बदनाम किया है, तो वो वामपंथी विचारधारा ने किया है.क्यों वहां ऐसे कार्यक्रम होते हैं जिससे देश का अपमान होता है.जब भी हमारे सैनिक नक्सलियों की गोली का शिकार होते हैं तो जेएनयू में जश्न क्यों मनाया जाता है.क्यों वहां देश के बहुसंख्यक समाज की भावनाओं को आहात करने के लिए दुर्गा का अपमान तथा महिषासुर का महिमामंडन किया जाता है? ये वो बातें हैं जिसने जेएनयू की छवि को खराब किया है,जिसके सीधे तौर पर जिम्मेदार वामपंथी विचारधारा के छात्र है.रिहाई के बाद जीत के नशे में डूबे कन्हैया एंड कंपनी को कोर्ट के तेईस पेज के फैसले को ध्यानपूर्वक पढना चाहिए ताकि अभिव्यक्ति की आज़ादी के मायने तथा अपनी जिम्मेदारी को ठीक ढंग से समझ सकें.

Comments

Popular posts from this blog

महाभियोग पर कांग्रेस का महाप्रलाप

सात विपक्षी दलों द्वारा मुख्य न्यायधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ़ दिए गए महाभियोग नोटिस को उपराष्ट्रपति ने यह कहते हुए ख़ारिज कर दिया कि मुख्य न्यायधीश के ऊपर लगाए गए आरोप निराधार और कल्पना पर आधारित है. उपराष्ट्रपति की यह तल्ख़ टिप्पणी यह बताने के लिए काफ़ी है कि कांग्रेस ने  किस तरह से अपने राजनीतिक स्वार्थों की पूर्ति के लिए महाभियोग जैसे अति गंभीर विषय पर अगम्भीरता दिखाई है. महाभियोग को अस्वीकार करने की 22 वजहें उपराष्ट्रपति ने बताई हैं. दस पेज के इस फ़ैसले में उपराष्ट्रपति ने कुछ महत्वपूर्ण तर्क भी दिए हैं. पहला, सभी पांचो आरोपों पर गौर करने के बाद ये पाया गया कि यह सुप्रीम कोर्ट का अंदरूनी मामला है ऐसे में महाभियोग के लिए यह आरोप स्वीकार नहीं किये जायेंगे. दूसरा, रोस्टर बंटवारा भी मुख्य न्यायधीश का अधिकार है और वह मास्टर ऑफ़ रोस्टर होते हैं. इस तरह के आरोपों से न्यायपालिका की स्वतंत्रता को ठेस पहुंचती है. तीसरा, इस तरह के प्रस्ताव के लिए एक संसदीय परंपरा है. राज्यसभा के सदस्यों की हैंडबुक के पैराग्राफ 2.2 में इसका उल्लेख है, जिसके तहत इस तरह के नोटिस को पब्लिक करने की अनुमति नहीं है, किन्त…

दुष्प्रचार की डगमगाती नैया के बीच गतिशील संघ !

यह एक सामान्य सत्य है कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को लेकर तमाम प्रकार की भ्रांतियां एवं दुष्प्रचार लंबे समय से देश में चलता रहा है.कांग्रेस एवं मीडिया से जुड़े बुद्दिजीवियों का एक धड़ा संघ को एक साम्प्रदायिक एवं राष्ट्र विरोधी संगठन जैसे अफवाहों को हवा देने की जिम्मेदारी अपने कंधो पर ले रखी है.किंतु वर्तमान समय में इनका   हर दावं विफ़ल साबित हो रहा है,जिससे तंग आकर इस कबीले के लोगों ने नया ढंग ईजाद किया है.वह है संघ से जुड़े पदाधिकारियों के बयान को अपनी सुविधा और अपने वैचारिक हितों की पूर्ति के मद्देनजर दिखाना.ताज़ा मामला संघ प्रमुख मोहन भागवत के बिहार के मुजफ्फरपुर में रविवार को दिए भाषण का है.संघ प्रमुख ने स्वयं सेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि “हमारा मिलिट्री संगठन नहीं है मिलिट्री जैसी डिसिप्लिन हमारी है और अगर देश को जरूरत पड़े और देश का संविधान,कानून कहे तो, सेना तैयार करने में छह –सात महीने लग जायेंगे,संघ के स्वयंसेवक को लेंगे तो तीन दिन में तैयार हो जाएगा.यह हमारी क्षमता है लेकिन, हम मिलिट्री संगठन नहीं है पैरामिलिट्री भी नहीं हैं हम तो पारिवारिक संगठन हैं” मोहन भागवत के इस संतुलित…

कर्नाटक में स्थायी सरकार जरूरी

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम सबके सामने है.किसी भी दल को वहाँ की जनता ने स्पष्ट जनादेश नहीं दिया .लेकिन, बीजेपी लगभग बहुमत के आकड़े चुमते –चुमते रह गई और सबसे बड़े दल के रूप में ही भाजपा को संतोष करना पड़ा है. कौन मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगा ? इस खंडित जनादेश के मायने क्या है ? क्या कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस को खारिज़ कर दिया ? ऐसे बहुतेरे सवाल इस खंडित जनादेश के आईने में खड़े हो थे. सरकार बनाने के लिए तमाम प्रकार की जद्दोजहद कांग्रेस और जेडीएस ने किया किन्तु कर्नाटक की जनता ने बीजेपी को जनादेश दिया था इसलिए राज्यपाल ने संविधान सम्मत निर्णय लेते हुए बी.एस यदुरप्पा को सरकार बनाने का न्यौता भेजा. राज्यपाल के निर्णय से बौखलाई कांग्रेस आधी रात को सुप्रीम कोर्ट की शरण में गई लेकिन, उसे वहां भी मुंह की खानी पड़ी. खैर,बृहस्पतिवार की सुबह यदुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.राज्यपाल के निर्देशानुसार पन्द्रह दिन के भीतर उन्हें  विधानसभा में बहुमत साबित करना होगा,फिलहाल अगर कर्नाटक की राजनीति को समझें तो बीजेपी के लिए यह बहुत कठिन नहीं होगा.क्योंकि जेडीएस और कांग्रेस के बीच हुए इस अनैतिक गठबन्…