Skip to main content

दिल्ली में प्रचंड बहुमत वाली सरकार

लोकसभा चुनाव से विजय रथ पर सवार बीजेपी का रथ आख़िरकार दिल्ली में अरविन्द केजरीवाल ने रोक दिया.दिल्ली चुनाव के नतीजें कुछ इस कदर आए कि सभी राजनीतिक पार्टियाँ ही नहीं वरन बड़े बड़े राजनीतिक पंडितों के अनुमान भी निर्मूल साबित हुए, अरविन्द केजरीवाल की इस आंधी में बड़े बड़े सुरमे ढहे तो वही कई कीलें भी ध्वस्त हो गए.जैसाकि सभी सर्वेक्षण पहले ही आम आदमी पार्टी को पूर्ण बहुमत दे रहे थे.केजरीवाल की इस आंधी ने सभी अनुमानों को गलत साबित करते हुए दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों में से 67 पर विजय प्राप्त कर दिल्ली की सल्तनत पर कब्जा जमा लिया.वहीँ बीजेपी को लेकर क़यास लगायें जा रहे थे कि बीजेपी को कम से कम 25 सीटें मिलेंगी लेकिन बीजेपी को महज 3 सीटें पाकर संतोष करना पड़ा,अजय माकन के नेतृत्व में चुनाव लड़ रही कांग्रेस की स्तिथि और बदतर हो गई,कांग्रेस के 70 में से 61 उम्मीदवार अपनी  जमानत तक नहीं बचा पाए और पार्टी का खाता भी इस चुनाव में नही खुल सका. केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के इस चुनाव में अभूतपूर्व जीत हासिल की है.प्रधानमंत्री मोदी की  रैलियों के बावजूद केंद्र की सत्ता पर काबिज बीजेपी विपक्ष की भूमिका निभाने लायक भी नहीं बची. बीजेपी की गढ़ कहे जाने वाली कृष्णा नगर जैसे  सिट से बीजेपी की नेतृत्व कर रही किरण बेदी को स्तब्धकारी हार झेलनी पड़ी.आप ने  कांग्रेस व बीजेपी के दिग्गजों को उनके ही गढ़ में शिकस्त देकर एक नई इबादत लिख दी.आप की यह जीत दिल्ली के लिए अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है. इससे पहले 1989 और 2009 के चुनाव  में सिक्किम संग्राम परिषद ने राज्य के सभी 32 सीटों पर विजय प्राप्त की थी.विगत लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सातों सीटें  पर बीजेपी उम्मीदवारों की जीत हुई थी.उस समय लगा था कि आम  आदमी पार्टी का वजूद खतरे में है .लेकिन जब हरियाणा,महाराष्ट्र और अन्य राज्यों के चुनाव हो रहे थे, तब आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता दिल्ली के प्रत्येक घर, प्रत्येकवर्ग, हर एक समुदाय से दिल्ली चुनाव को लेकर व्यापक जनसम्पर्क करने में लगे थे,जो आम आदमी पार्टी के लिए हितकर साबित हुआ. बीजेपी दिल्ली चुनाव में जीत को लेकर आश्वस्त हो गई थी और कार्यकर्ता भी ये मान के चल रहे थे कि हम इस बार भी मोदी लहर के भरोसे दिल्ली की बैतरनी पार कर जायेंगे लेकिन, केजरीवाल के धुआंधार प्रचार व जनसम्पर्क के आगे बीजेपी को दिल्ली चुनाव में मुहं की खानी पड़ी है.पिछले विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 28 सीटें मिली थी बीजेपी को 31 सीटें मिली थी तथा कांग्रेस को 8 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा था,कांग्रेस का  समर्थन पाकर केजरीवाल ने दिल्ली में अपनी सरकार बनाई और 49 दिनों के बाद उन्होंने लोकपाल के  मुद्दे पर बड़े विचित्र ढंग से इस्तीफा दे दिया,केजरीवाल ने दिल्ली की जनता से इस 49 दिनों के अपने अनुभव पर ही वोट माँगा था.जनता को वो 49 दिन याद आये जब पुलिस वालों की हिम्मत नहीं होती थी कि वो जनता से रिश्वत मांग सके, इन्ही सब बातों को ध्यान में रखते हुए दिल्लीवासियों ने केजरीवाल पर एक बार फिर विश्वास किया और अपना जनादेश केजरीवाल को देना उचित  समझा.आम आदमी पार्टी के प्रतिबद्ध कार्यकर्ताओं ने अपने बलबूते पर दिल्ली के इस काटें की टक्कर को अपने पक्ष में किया और भव्य विजय पाई .बीजेपी ने अपना पूरा चुनाव प्रचार केजरीवाल के इर्द-गिर्द रखा और उनकी आलोचना करने में अपना समय बर्बाद किया.जिसका सीधा फायदा केजरीवाल को हुआ पार्टी भारी बहुमत के साथ दिल्ली की बागडोर सम्भालने जा रही है,केजरीवाल ने दिल्ली की जनता से हर मुद्दे पर  लोकलुभावन  वादे किए और उसे पूरा करने का आश्वासन भी दिया जो दिल्ली की जनता को पसंद आया.आप आदमी पार्टी के जीतने का एक और बड़ा कारण यह भी है कि इस बार दिल्ली के 90 फीसदी अल्पसंख्यकों तथा झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले 33% जनता ने केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को अपना मत दिया. जिससे कांग्रेस का वोट प्रतिशत कम हुआ ,इसका  सीधा फायदा  बीजेपी को न होकर आम आदमी पार्टी को हुआ दूसरी  तरफ बीजेपी की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार किरण बेदी जनता से संवाद स्थापित करने में विफल रही जिसका खामियाजा पार्टी को 28 सीटों का नुकसान झेलना पड़ा है.अब दिल्ली की जनता ने तकरीबन एक साल के बाद प्रचंड बहुमत वाली सरकार चुनी है,अब देखने वाली बात होगी कि केजरीवाल की सत्ता में वापसी दिल्ली के लिए कितना हितकर होगा और केजरीवाल दिल्ली की जनता से किए गए वायदों पर कितना खरा उतरते है.

x

Comments

Popular posts from this blog

महाभियोग पर कांग्रेस का महाप्रलाप

सात विपक्षी दलों द्वारा मुख्य न्यायधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ़ दिए गए महाभियोग नोटिस को उपराष्ट्रपति ने यह कहते हुए ख़ारिज कर दिया कि मुख्य न्यायधीश के ऊपर लगाए गए आरोप निराधार और कल्पना पर आधारित है. उपराष्ट्रपति की यह तल्ख़ टिप्पणी यह बताने के लिए काफ़ी है कि कांग्रेस ने  किस तरह से अपने राजनीतिक स्वार्थों की पूर्ति के लिए महाभियोग जैसे अति गंभीर विषय पर अगम्भीरता दिखाई है. महाभियोग को अस्वीकार करने की 22 वजहें उपराष्ट्रपति ने बताई हैं. दस पेज के इस फ़ैसले में उपराष्ट्रपति ने कुछ महत्वपूर्ण तर्क भी दिए हैं. पहला, सभी पांचो आरोपों पर गौर करने के बाद ये पाया गया कि यह सुप्रीम कोर्ट का अंदरूनी मामला है ऐसे में महाभियोग के लिए यह आरोप स्वीकार नहीं किये जायेंगे. दूसरा, रोस्टर बंटवारा भी मुख्य न्यायधीश का अधिकार है और वह मास्टर ऑफ़ रोस्टर होते हैं. इस तरह के आरोपों से न्यायपालिका की स्वतंत्रता को ठेस पहुंचती है. तीसरा, इस तरह के प्रस्ताव के लिए एक संसदीय परंपरा है. राज्यसभा के सदस्यों की हैंडबुक के पैराग्राफ 2.2 में इसका उल्लेख है, जिसके तहत इस तरह के नोटिस को पब्लिक करने की अनुमति नहीं है, किन्त…

दुष्प्रचार की डगमगाती नैया के बीच गतिशील संघ !

यह एक सामान्य सत्य है कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को लेकर तमाम प्रकार की भ्रांतियां एवं दुष्प्रचार लंबे समय से देश में चलता रहा है.कांग्रेस एवं मीडिया से जुड़े बुद्दिजीवियों का एक धड़ा संघ को एक साम्प्रदायिक एवं राष्ट्र विरोधी संगठन जैसे अफवाहों को हवा देने की जिम्मेदारी अपने कंधो पर ले रखी है.किंतु वर्तमान समय में इनका   हर दावं विफ़ल साबित हो रहा है,जिससे तंग आकर इस कबीले के लोगों ने नया ढंग ईजाद किया है.वह है संघ से जुड़े पदाधिकारियों के बयान को अपनी सुविधा और अपने वैचारिक हितों की पूर्ति के मद्देनजर दिखाना.ताज़ा मामला संघ प्रमुख मोहन भागवत के बिहार के मुजफ्फरपुर में रविवार को दिए भाषण का है.संघ प्रमुख ने स्वयं सेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि “हमारा मिलिट्री संगठन नहीं है मिलिट्री जैसी डिसिप्लिन हमारी है और अगर देश को जरूरत पड़े और देश का संविधान,कानून कहे तो, सेना तैयार करने में छह –सात महीने लग जायेंगे,संघ के स्वयंसेवक को लेंगे तो तीन दिन में तैयार हो जाएगा.यह हमारी क्षमता है लेकिन, हम मिलिट्री संगठन नहीं है पैरामिलिट्री भी नहीं हैं हम तो पारिवारिक संगठन हैं” मोहन भागवत के इस संतुलित…

कर्नाटक में स्थायी सरकार जरूरी

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम सबके सामने है.किसी भी दल को वहाँ की जनता ने स्पष्ट जनादेश नहीं दिया .लेकिन, बीजेपी लगभग बहुमत के आकड़े चुमते –चुमते रह गई और सबसे बड़े दल के रूप में ही भाजपा को संतोष करना पड़ा है. कौन मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगा ? इस खंडित जनादेश के मायने क्या है ? क्या कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस को खारिज़ कर दिया ? ऐसे बहुतेरे सवाल इस खंडित जनादेश के आईने में खड़े हो थे. सरकार बनाने के लिए तमाम प्रकार की जद्दोजहद कांग्रेस और जेडीएस ने किया किन्तु कर्नाटक की जनता ने बीजेपी को जनादेश दिया था इसलिए राज्यपाल ने संविधान सम्मत निर्णय लेते हुए बी.एस यदुरप्पा को सरकार बनाने का न्यौता भेजा. राज्यपाल के निर्णय से बौखलाई कांग्रेस आधी रात को सुप्रीम कोर्ट की शरण में गई लेकिन, उसे वहां भी मुंह की खानी पड़ी. खैर,बृहस्पतिवार की सुबह यदुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.राज्यपाल के निर्देशानुसार पन्द्रह दिन के भीतर उन्हें  विधानसभा में बहुमत साबित करना होगा,फिलहाल अगर कर्नाटक की राजनीति को समझें तो बीजेपी के लिए यह बहुत कठिन नहीं होगा.क्योंकि जेडीएस और कांग्रेस के बीच हुए इस अनैतिक गठबन्…